Makar Sankranti Description 2019

https://vedicguruji.com/ मकर संक्रांति परंपरागत रूप से 14 जनवरी को मनाई जाती आ रही है लेकिन 2012 से मकर संक्रांति की तिथि को लेकर उलझन की स्थिति बनती चली आ रही है पिछले कुछ वर्षों में मकर संक्रांति 14 को मनाई जाएगी या 15 जनवरी को इस बात को लेकर सवाल सामने आने लगे हैं । साल 2019 में भी कुछ इसी तरह की स्थिति बनकर सामने आई है। गूगल सर्च के अलावा, कई कैलेंडर और पंचांग मकर संक्रांत की तिथि 14 जनवरी बता रहे हैं तो कई पंचांग 15 जनवरी को मकर संक्रांति बता रहे हैं।

https://vedicguruji.com/ Makar Sankranti has traditionally been celebrated on 14th January, but since 2012, the situation of confusion about the date of Makar Sankranti has been going on. In the last few years, Makar Sankranti will be celebrated on 14 or 15 On January, questions have been raised about this matter. Something similar has emerged in the year 2019 too. In addition to Google search, many calendars and ephemeris are telling the date of Makar Sankrant 14 January, so many almanacs are saying Makar Sankranti on January 15th.

 

मकर संक्रांति की सही तिथि

The exact date of Makar Sankranti

अगर आप भी इस बात को लेकर उलझन में हैं कि मकर संक्रांति किस दिन मनाएं तो अपनी उलझन को दूर कर लीजिए। धार्मिक और ज्योतिष विषयों के जानकर वैदिकगुरुजी श्री वरुण जी बताते हैं कि इसमें कोई दो मत नहीं होना चाहिए कि इस साल मकर संक्रांति 15 जनवरी को है दरअसल सूर्य का मकर राशि में प्रवेश 14 जनवरी की शाम 7 बजकर 55 मिनट पर हो रहा है। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले अगले दिन संक्रांति मनाई जाती है। इस नियम के अनुसार ही मकर संक्रांति 14 नहीं 15 जनवरी को मनाई जाएगी।
https://vedicguruji.com/

 

 

 

If you are also confused about what day Makar Sankranti celebrates then remove your tangle. Knowing religious and astrological disciplines, Vedic Guruji Shri Varun ji explains that there should be no two votes in this year that Makar Sankranti is going on January 15, in fact, the entry of Sun in Capricorn is happening on the evening of 14 January at 7:55. According to the rules of the scriptures, the Sankranti is celebrated the next day after the Sankranti in the night. According to this rule Makar Sankranti 14 will be celebrated on 14th January 15th. https://vedicguruji.com/

मकर संक्रांति मुहूर्त पुण्यकाल

 

Makar Sankranti Muhurta

 

 

संक्रांति के पुण्य काल की जहां तक बात है तो नियम यह है कि संक्रांति से 6 घंटे पहले और बाद तक पुण्यकाल होता है इसलिए 14 जनवरी को 7 बजकर 55 मिनट से संक्रांति शुरु होगी। सूर्य के उदया तिथि के नियामानुसार 15 जनवरी को ब्रह्ममुहूर्त से पूरे दिन संक्रांति का स्नान दान किया जा सकेगा।  As far as the virtue of Sankranti is concerned, the rule is that there is a virtuous period 6 hours before and after Sankranti, therefore, the Sankranthi will start from 7.55 hrs on 14th January. According to the source of the Sun’s rising to full day, on 15th January, the bath of solstice can be donated from Brahmamurath all day

मकर संक्रांति पर क्या करें

 

What to do on Makar Sankranti

 

ज्योतिषशास्त्र के नियमानुसार सोमवार को संक्रांति होने पर उसे उसे ध्वांक्षी संक्रांति कहते हैं। सूर्य का प्रवेश चूंकि सोमवार की शाम में ही मकर राशि में हो रहा है इसलिए यह मकर संक्रांति ध्वांक्षी संक्रांति कहलाएगी। इस संक्रांति में दान का बड़ा महत्व बताया है। कहते हैं इस संक्रांति में किया गया दान लोक-परलोक दोनों में ही सुख और समृद्धि प्रदान करता है। सक्रांति अवसर पर स्नान के बाद काले कंबल, ऊनी वस्त्र, जूते, भूमि, स्वर्ण, अन्न का दा का दान कर सकते हैं। इस अवसर पर धार्मिक पुस्तकों का दान भी बहुत पुण्यदायी माना गया है, आप अपनी श्रद्धा के अनुसार रामायण या गीता दान कर सकते हैं।
https://vedicguruji.com/

 

According to the law of astrology, on Monday, when it is solstice, it is called Dhawanshi Sankranti. Since the entry of the sun is happening in the Capricorn on the evening of Monday, it will be called Makar Sankranti Dhawanshi Sankranthi. Charity is said to be of great importance in this Solstice. It says that the donation given in this Sankranthi provides happiness and prosperity in both the ways worldly happiness. After the bath, on the occasion of Sankranti can donate black blankets, woolen garments, shoes, land, gold, grains of grains. On this occasion, donation of religious books is also considered very sacramental, you can donate Ramayana or Geeta according to your reverence.

 

मकर संक्रांति का राशियों पर प्रभाव

Effects on Capricorn of Makar Sankranti

 

मकर राशि में सूर्य का प्रवेश आमतौर पर शुभ प्रभाव देता है लेकिन अभी इस राशि में केतु विराजमान है। इसलिए मकर राशि में सूर्य का आगमन मिलाजुल फल देगा। मकर राशि में सूर्य के आगमन से तुला, मिथुन और कुंभ राशि वालों को कष्ट हो सकता है। वैसे तुला राशि वालों को इस संक्रांति से भूमि-भवन और धन का लाभ भी मिल सकता है। धनु राशि वाले बीते 1 महीने से चली आ रही परेशानी से कुछ राहत महसू करेंगे।

The entry of the sun in the Capricorn amount usually gives auspicious effect but Ketu is sitting in this amount right now. Therefore, the arrival of the Sun in Capricorn will give mixed results. From the arrival of the Sun in Capricorn zodiac, people suffering from Libra, Gemini and Aquarius can suffer. By the way, people of Libra can get the benefits of land and building and money through this sankranti. Sagittarius will get some relief from the troubles of the past 1 month.

 

 

वैदिक गुरु जी ने बताया मकर संक्रांति के दिन करे सूर्य नारायण की आराध्ना करे सूर्य देव को प्रसन जाप करे जो बदले गी आप के किस्मत ॐ आदित्याय नमः ॐ सूर्याय नमः ये जाप आप को यश कीर्ति और सुख देगा

Vedic Guru Ji told Makar Sankranti on the day of Suryan Narayan praying to the Sun God, who will change your destiny, Adityaya Namah: Suryaya Namah, this chants will give you success and happiness

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *