जाने माणिक पहनने के फायदे हम लाएं हैं आपके लिए ये अनमोल रत्न

जाने माणिक पहनने के फायदे, हम लाएं हैं आपके लिए ये अनमोल रत्न

जाने माणिक पहनने के फायदे, हम लाएं हैं आपके लिए ये अनमोल रत्न

जाने माणिक पहनने के फायदे हम लाएं हैं आपके लिए ये अनमोल रत्न

जाने माणिक पहनने के फायदे हम लाएं हैं आपके लिए ये अनमोल रत्न

सूर्य ग्रह, माणिक्ये, सिंह राशि, रूबी, 

सूर्य माणिक रत्न का स्वा्मी है। सूर्य की कृपा से जातक को हर कार्य में सफलता मिलती है। सूर्य की राशि सिंह है, इसलिए सिंह राशि के लोगों को शुभ फलों की प्राप्ति के लिए माणिक रत्न अवश्य धारण करना चाहिए। माणिक को अंग्रेजी में RUBY/रूबी कहते हैं। माणिक रत्न सूर्य ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है। यह सब रत्नों का राजा माना गया है। इसे सूर्य के कमजोर व पत्रिकानुसार स्थिति जानकर इस रत्न को धारण करने का विधान है।

इसे सभी रत्नों में सबसे श्रेष्ठ माना जाता है। लाल रंग का माणिक सबसे बेहतरीन और मूल्य वान होता है। कीमत में इसका कोई मोल नहीं है, इसकी क्वॉलिटी पारदर्शिता व कलर पर निर्भर करता है इसका मूल्य। सबसे उत्तम बर्मा का माणिक माना गया है। यह अनार के दाने-सा दिखने वाला गुलाबी आभा वाला रत्न बहुमूल्य है।

इसकी कीमत वजन के हिसाब से होती है। यह करूर, बैंकॉक का भी मिलता है; लेकिन कीमत सिर्फ बर्मा की ही अधिक होती है। बाकी 1000 रु. से 5000 रु. कैरेट तक में मिल जाता है, लेकिन बर्मा की किमत 10000 रु. कैरेट से आगे होती है। एक कैरेट 200 मिली का होता है व पक्की रत्ति 180 मिली की होती है।

Gemstones and their Significance in human life

माणिक्यी रत्नै के लाभ:
• सूर्य ग्रह का रत्न माणिक बहुत ही चमकदार एवं गहरा लाल या गुलाबी रंग का होता है। आंखों की समस्या से बचने के लिए यह रत्न धारण किया जाता है।
• इस रत्न के प्रभाव से प्रेम भावना जागृत होती है।
• यह रत्न धारण करने से व्यक्ति में नेतृत्व करने के गुण आते है।
• सरकारी क्षेत्र में कार्य करने वाले लोगों को माणिक पहनने से लाभ होता है। कामकाज में लाभ और उन्नति के लिए यह रत्न धारण किया जाता है।
• स्वास्थ्य संबंधित परेशानियों से छुटकारा पाने के लिए माणिक रत्न धारण करते है।
• पुत्र संतान एवं भाईयों को मिल रही परेशानियों को दूर करने के लिए माणिक रत्न पहनना लाभकारी होता है।
• बदनामी से बचने के लिए यह रत्न धारण किया जाता है।

माणिक को धारण करने का सही समय : –
माणिक को शुक्ल पक्ष के किसी भी रविवार को सुबह 5.50 से 6.40 बजे तक धारण कर सकते हैं।

माणिक किसके साथ पहनें-

माणिक को मोती के साथ पहनने से पूर्णिमा नाम का योग बनता है। माणिक को पुखराज के साथ भी पहन सकते हैं। माणिक व पुखराज प्रशासनिक क्षेत्र में उत्तम सफलता का कारक होता है। माणिक व मूंगा भी पहन सकते हैं, ऐसा जातक प्रभावशाली व कोई प्रशासनिक क्षेत्र में सफलता पाता है। इसे पुखराज, मूंगा के साथ भी पहना जा सकता है। पन्ना व माणिक भी पहन सकते है, इसके पहनने से बुधादित्य योग बनता है। जो पहनने वाले को दिमागी कार्यों में सफल बनाता है। माणिक, पुखराज व पन्ना भी साथ पहन सकते हैं। माणिक के साथ नीलम व गोमेद नहीं पहना जा सकता है।

The Power of Sound Healing and More – Workshop on August 18, 2019

सिंह लग्न में जब सूर्य पंचम या नवम भाव में हो तब माणिक पहनना शुभ रहता है। वृषभ लग्न में केन्द्र चतुर्थ का स्वामी होता है सूर्य कि स्थितिनुसार इस लग्न के जातक भी माणिक पहन सकते हैं। मेष, मिथुन, कन्या, वृश्चिक, धनु मीन लग्न वाले सूर्य की शुभ स्थिति में माणिक पहन सकते है।

यह रत्न अनमोल है। इसके बारे में एक धारणा यह है कि माणिक की दलाली में हीरे मिलते हैं।
मंगल, चन्द्र, और गुरु इनके मित्र है और बुध इनके सम ग्रह है। इसलिए इन देवताओ से सम्बन्धी रत्न हमे माणिक के साथ पहन लेने चाहिए। लेकिन शुक्र, शनि तथा राहु एव केतु के रत्न हमे कभी भी माणिक के साथ नही पहने चाहिए क्योंकि यह सूर्य देवता के शत्रु ग्रह है। माणिक कभी भी हीरा, नीलम और गोमेद और लहसुनिया के साथ नही पहनना चाहिए।

जाने माणिक पहनने के फायदे हम लाएं हैं आपके लिए ये अनमोल रत्न

जाने माणिक पहनने के फायदे हम लाएं हैं आपके लिए ये अनमोल रत्न

कौन करे धारण
सिंह राशि के जातक इस अभिमंत्रित माणिक्ये की अंगूठी को धारण कर सकते हैं।
कौन होते हैं सिंह राशि के जातक
अगर आपका जन्मस 21 जुलाई से 20 अगस्त के बीच हुआ हो या आपका नाम मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे में से किसी एक अक्षर से शुरू होता है तो आपकी राशि सिंह है।
हमसे क्यों लें
इस अंगूठी को हमारे अनुभवी ज्योतिषाचार्य द्वारा अभिमंत्रित करने के बाद आपके पास भेजा जाएगा ऐसा करने से आपको इस रत्न के शीघ्र ही शुभ फल मिल सके, इसके अलावा इस रत्न के साथ सर्टिफिकेट भी दिया जाएगा जो इस रत्न के ओरिजनल होने का प्रमाण है।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *